Wifi के सिग्नल से बनेगी बिजली और चार्ज होगा Phone

wifi will charge your phone

वाईफाई से इंटरनेट चलाते तो देखा होगा, लेकिन क्या आपने कभी उससे फोन की बैटरी चार्ज करके देखी है। मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के शोधकर्ताओं ने इस दिशा में एक अहम सफलता प्राप्त की है। शोधकर्ताओं ने एक डिवाइस को वाईफाई के सिग्नल से चार्ज करके दिखाया। 
अमेरिका स्थित एमआईटी शोधकर्ताओं ने वाईफाई सिग्नल को बिजली में बदलने के लिए kरेक्टिनाl का इस्तेमाल किया, जो एक खास प्रकार का एंटीना होता है। यह शोध अंग्रेजी पत्रिका नेचर में प्रकाशित हुआ। जानकारी के मुताबिक, यह विशेष एंटीना ए सी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरणों को प्राप्त करता है, जिसमें वाईफाई किरणें भी शामिल हैं।


सेमिकंडक्टर बदलता है इलेक्ट्रोमैग्नेटिक का स्वरूप 
एमआईटी के शोधकर्ताओं का यह रेक्टिना एक kटू डाइमेंशियल सेमिकंडक्टरl से जुड़ा होता है। इसके बाद जैसे ही ए सी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरण सेमिकंडक्टर से होकर गुजरती हैं तो वह डीसी इलेक्ट्रिसिटी में परिवर्तित हो जाती हैं। इस बिजली से फ्लैक्सिबल डिवाइस की बैटरी चार्ज होती है। 


40 माइक्रोवाट बिजली प्राप्त की
एमआईटी के इस kटू डाइमेंशियल सेमिकंडक्टरl ने वाईफाई के सिग्नल का इस्तेमाल करके लगभग 40 माइक्रोवाट बिजली पैदा की। शोधकर्ताओं के मुताबिक, 40 माइक्रोवाट बिजली की क्षमता एक साधारण डिस्प्ले वाले फोन और एक सिलिकन चिप्स को चलाने में सक्षम है। कई रेक्टिना का इस्तेमाल करके रेक्टिफायर तैयार किया जा सकता है और उससे ज्यादा मात्रा में बिजली प्राप्त की जा सकती है। 


बैटरी मुक्त डिवाइस को भी मिलेगी बिजली 
kटू डाइमेंशियल सेमिकंडक्टरl का इस्तेमाल बिना बैटरी वाले उपकरणों को चलाया जा सकेगा। इससे डिवाइस को वाईफाई से कनेक्ट करने के बाद इंटरनेट के साथ बिजली भी प्राप्त हो सकेगी। ध्यान देने वाली बात यह है कि ऐसे में बैटरी से निकलने वाली खतरनाक रेडियो किरणों से बचा जा सकेगा। 


फ्लैक्सिबल डिवाइस पर हुआ शोध 
कैब्रिज स्थित एमआईटी के शोधकर्ताओं ने जानकारी दी कि यह शोध एक हाईटेक फ्लैक्सिबल उपकरण पर किया गया। इस उपकरण को अखबार की तरह एक कोने से लेकर दूसरे कोने तक फोल्ड किया जा सकता है। फोल्डेबल फोन तकनीक की दुनिया के लिए एकदम नया डिवाइस है।  

Post a Comment

0 Comments